Ethiclogy

हवन का महत्त्व



              

हवन अथवा यज्ञ भारतीय परंपरा अथवा हिंदू धर्म में शुद्धीकरण का एक कर्मकांड है। कुण्ड में अग्नि के माध्यम से देवता के निकट हवि पहुँचाने की प्रक्रिया को यज्ञ कहते हैं। हवि, हव्य अथवा हविष्य वह पदार्थ हैं जिनकी अग्नि में आहुति दी जाती है (जो अग्नि में डाले जाते हैं).हवन कुंड में अग्नि प्रज्वलित करने के पश्चात इस पवित्र अग्नि में फल, शहद, घी, काष्ठ इत्यादि पदार्थों की आहुति प्रमुख होती है। ऐसा माना जाता है कि यदि आपके आस पास किसी बुरी आत्मा इत्यादि का प्रभाव है तो हवन प्रक्रिया इससे आपको मुक्ति दिलाती है। शुभकामना, स्वास्थ्य एवं समृद्धि इत्यादि के लिए भी हवन किया जाता है। हवन एक ऐसी विधा है जिसके नियमित करने से मनवांछित फल प्राप्त होता है तथा अपने विरोधी का नुकसान व अपनी शक्ति ज्यादा बढ़ा देता है इसलिए तामसी प्रवृत्ति वाले तांत्रिक भी इसका भरपुर उपयोग करते है। हवन शुभ ऊर्जा के जागरण में निर्देशित प्रक्रिया है और हमारे आसपास की नकारात्मक ऊर्जा से मुक्ति दिलाती है हवन के दौरान बोले जाने वाले पवित्र मंत्र एक विशेष कंपन पैदा करते है जो बुरी ऊर्जा को सकारात्मक ऊर्जा में परिवार्तित करते है। हवन हमारे स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है क्योकि हवन करते समय उसमे कुछ ऐसी सामग्री डाली जाती है जो की हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होती है। हवन कुण्ड शुद्ध होना चाहिए तथा आहुति देने वाला व्यक्ति सही ढंग से बैठकर आहूति दें । सिर पर पगडी तथा धोती व सफेद कपडे पहने हुए होने चाहिऐ। नीले या काला रंग का कोई भी कपडा पहना हुआं नहीं होना चाहीए। फिर शुद्ध सात्विक भावसे श्रध्दापूर्वक ओ3म स्वाहा के साथ आहुति देनी चाहिए। पहले वैदिक मंत्र फिर गोत्राचार बोलकर भी जम्भेष्वर भगवान का आवाहन करें । तो विशेष फलदायक हैं।