Ethiclogy

सभी शुभ कार्यों में पूर्व दिशा में मुख क्यों किया जाता है ?



              

पूर्व दिशा को शुभता का प्रतीक माना जाता है क्योकि सूर्य भी पूर्व दिशा से ही उगता है। कहते है कि इस दिशा के देवता इन्द्रदेव है.वेदों में उदय होते हुए सूर्य की किरणों का बहुत महत्व बताया गया है क्योकि उदय होता हुआ सूर्य सभी कष्टों को दूर करता है,सूर्य की किरण मनुष्य को मृत्यू से बचाती है। इस दिशा में सूर्य की करणों में कोई रुकावट नही होनी चाहिए. सभी शुभ कार्य पूर्व दिशा में ही किए जाते है, और हर सुबह सूर्योदय के समय पूर्व दिशा की ओर मुख करके सूर्य नमस्कार, उपासना, संध्योपासन और हवन करना बहुत लाभकारी होता है। पूर्व दिशा पर कुबेर जी की सीधी नजर पडती है। घर का दरवाजा हमेशा पूर्व दिशा की ओर ही होना चाहिए जिससे सूर्य की किरण सीधी घर में आये।