Ethiclogy

श्री खाटू श्याम जी महाराज कथा -



              

महाराज श्री खाटू श्याम जिन्हें शीश का दानी के नाम से यह संसार पूजता है .खाटू श्याम महाभारत काल में पांडव महाबली भीम के पोत्र और घटोत्कच और माँ मोर्वी ( कामकटंकटा ) के पुत्र वीर बर्बरीक थे, इन्होने जब अपनी माँ के कहेअनुसार हरने वाली सेना का साथ दिया तब अपनी माँ मोर्वी को दिए वचन को निभाने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने वीर बर्बरीक से उनका शीश दान मांग लिया।.तब वीर बर्बरीक ने ख़ुशी ख़ुशी अपना शीश भगवान श्री कृष्ण को दान में दे दिया। . भगवान श्री कृष्ण ने इस महान शीश बलिदान से खुश होकर वीर बर्बरीक को यह वरदान दिया की,यह संसार कलियुग में तुम्हे मेरे नाम "श्याम " से घर घर में पुजेगा और तुम सबकी मनोकामना पूर्ण करोगे . आज खाटू वाला श्याम अपने भक्तो की सभी मनोकामनाए पूर्ण करते है।